2.1.12

WELCOME 2012



इस साल सबसे ज्यादा 'ठाणे' ने नए साल की पार्टी मनाई, पूरे देश में लोगों ने बारिश का नृत्य देखकर और गान सुनकर नए साल का अभिवादन किया. नए साल में एक नया एहसास जरुर हुआ 'ठाणे' की वजह से.  हालाँकि  इस बात का दुःख भी है कि घने कोहरे और शून्य से नीचे के तापमान ने कुछ लोगों की जान ले ली. यह भारत है इसलिए कुछ ख़ास हल्ला नहीं हुआ, कहीं मक्सिको होता तो माया सभ्यता के पालनहार जरुर इसे प्रकृति की  पूर्व चेतावनी मानकर दुनिया के अंत की घोषणा कर देते, मनुष्य कितना भी आगे बढ़ जाये, प्रकृति के अनदेखे रूप का भय हमेशा उसके अंतस में रहता ही है.