18.10.13

उस रेगिस्तानी टीले पर ..


दूर रेगिस्तान की एक मीनार के अहाते में 
सनसनाती हवा के संगीत में 
लहराती जुल्फों के नृत्य में 
ताल मिलाती आँखों की पुतलियाँ 

मुर्दे भी चैन से लेटे थे जहाँ 
अपने अधूरे ख्वाबों के कश लेते 
कभी - कभी मुझे देखते
बस एकाध बार अपने ख्वाब के विषय बदलने

एक नकाबपोश है दूर ऊंट में बैठा 
रेत के बवंडर से आता 
आहिस्ता आहिस्ता .. फिर ..
गुम हो जाता उसी बवंडर में 

मुर्दे भी मुंह फेर लेते 
सो जाते उस करवट 
इंतज़ार में 
किसी दूसरे नकाबपोश के 

एक बार बवंडर देखती 
तो दूसरी बार मुर्दे 
दोनों ही नही .. होकर भी 
दोनों ही हैं ..न होकर भी 

बैठकर देखती फिर से 
गर्म हवा के झोकों से रेत उड़ते 
इत्मिनान का कश खींचते 
उस रेगिस्तानी टीले पर 

4.10.13

आप सभी को नवरात्री की हार्दिक शुभकामनाएँ



कुछ है नहीं जो साथ ले जाया जा सके ..
प्रेम, मोह, द्वेष, घृणा, शिकायत, ख़ुशी .... बस समा जाते हैं उस कोख में जिससे जन्में हैं...

चलो बुलावा आया है ..............................
माता ने बुलाया है ................

कोख में ... वहीँ जहाँ से आए हैं .. वहीं जहाँ सबको जाना है ...
कुछ बच्चे जीते जी वहां चले जाते हैं .. तो कुछ अपने अंतिम सफ़र से माँ की कोख में समा जाते हैं ..
इस नवरात्री ईश्वर से प्रार्थना है कि आपको माता का आशीर्वाद ख़ुशी, सम्पन्नता, शांति, प्रेम , वैभव और उन्नति से भर दे.
आप सभी को नवरात्री की हार्दिक शुभकामनाएँ _
_/\_