5.12.12

पञ्च तत्त्वं

शीतल चन्द्र
प्रतिबिम्ब तरण 
अमृत जल 

गंदली मट्टी
नदिया से सागर 
घुलती जाती

सरसों लेप
हल्दी औ कुमकुम
चन्दन की सुगंध

आकाश गण
जीवन अवसर
चन्द्र कमल

जलता चूल्हा
गाय का अग्रासन
कुटुम्बकम


6 comments:

SHARE YOUR VIEWS WITH READERS.