31.7.11

Udaan



Bade-bade sapne , chhote-chhote hausale
Kaise ho badiii Udaan?!!
Sochati hi rahti main chidiya nadaan!


Dekhi jo maine chhote-chhote hausalon ki chhoti-si udaan
Ja baitthi usi daal pe chhote sapnon wali chidiya ke paas
Jo thi bilkul mere samaan !


baat pate ki samajh, lii maine
chhote se hausaleon ki chhoti si udaan
man waise hi fudkaa jaise kiya ho koi kaary mahan !


Anand badata hi gaya chhoti si fudkan ke saath
Mila naya rasta har avarodh ke baad
Yahi tha jeevan ka sabak le tu jaan!


Ek lambi dagar shuru hoti hai chhoti padchaap se
oonchi se oonchi udaan puri hoti hai uski
jisne udne ka liya ho ttaan !






बड़े-बड़े सपने, छोटे-छोटे हौसले 
कैसे हो बड़ी उड़ान ?!!
सोचती ही रहती मैं चिड़िया सी नादान !

देखी जो मैंने छोटे-छोटे  हौसलों  की  छोटी-सी  उड़ान 
जा बैठी उसी डाल पे छोटे सपनों वाली चिड़िया के पास 
जो थी बिलकुल मेरे सामान !
 
बात पते की समझ ली मैंने 
छोटे से हौसलों की मेरी छोटी-सी उड़ान 
मन वैसे ही फुदका जैसे किया हो कोई कार्य महान !

आनंद बढता ही गया छोटी-सी फुदकन के साथ
मिला नया रास्ता हर अवरोध के बाद
यही था जीवन का सबक मैंने लिया जान !

एक  लम्बी डगर शुरू होती है छोटी पदचाप से 
ऊंची से ऊंची उड़ान पूरी होती है उसकी 
जिसने उड़ने का लिया हो ठान ! 


No comments:

Post a Comment

SHARE YOUR VIEWS WITH READERS.