28.7.11

'Two' is not duality

Meri do mauseri bahane jo aapas me sagi bahane hain ek-doosre se bahut juda-juda swabhaav ki hain. Ek hain Pappy didi jo sabse badi hain aur apne behad bindaas vyaktitva ke liyevishw-vikhyaat hain. Matlab, jo bolna hia wo bolna hai, hame pata hai ki hum sahi hain , buss. Wahin unki chhoti bahan, Guddo didi hain jo apni pyari-se smile ke liye vishw-vikhyaat hain, vishw-vikhyaat isliye kyonki ye donon hi bahane Bharat ki seemaon ko laangh chuki hain aur ab apne parivaar ke saath kramashah UK aur USA me rahti hain.


Bahut dino se soch rahi thi ki unse khaastaur par Pappy dii se ye baat mein share karti , is blog ke bahane aap sab se bhi share kar rahi hun. Main bachpan se hi Guddo dii ke saral aur hansmukh swabhav ko bahut pasand karti hun aur jab bhi mauka milta main unki puchchalli ban jati , Pappy dii se mujhe kuchh dar sa lagta tha, shayad isliye kyonki jitna ladhiyaa kar rahne ki meri aadat thi waisa response mujhe unse kabhi nahi mila. To meri favorite di Guddo di hi rahi. Aaj bhi hain par ab kuchh badal gaya hai.


In 30 varshon me maine jeevan me rishton ke anek roop dekhe, kisi ne itna pyaar aur samman diya ki main unke saamne nat-mastak ho gai to kisi ne itana bharosa aur saath diya ki mere toote hue aatm-vishwaas ko safalta tak me badal diya wahin jaise -jaise main badi ho rahi thi, badhte competition ne bewakoof pratidvandi bhi paida kar diye jo 'jangal law' follow karte the matlab jabaran ka 'raste se hataa do pregramm'. hmm... mujhe ye sab ajeeb lagta tha.. ek pyari si ladki jo sabke saath hans ke rahna chahti hai, jo ban sake karna chahti hai usey raaste se kyon hatana hai? Shayad wo kisi aur ke liye jagah banaanaa chahte the , to kah dete na, mere dil me itani jagah hai ki main unke liye khud ko thoda samet leti aur unke kaam aati, par nahin, yahan to 'jang' chal rahi thi.


In kambakhta logon ne mere andar ke pyaar aur bharose ko todna shuru kar diya, mujhe laga ki main galat hun aur mujhe duniyadari samajhani padegi par kabhi lagta ki nahi, jab log galat karne ke pahle nahi sochte to main sahi karne ke baad bhi kyon dukhi ho rahi hun. Ye sahi nahi hai, mujhe apani rah par hi chalna chahiye. Par nahi, main poori tarah sahi nahi thi, aadhi sahi thi. Main lagataar peeche hoti jaa rahi thi aur uska karan sirf ek tha, meri jhijhak. Aswikaryata ka sahi samay par sahi pradarshan aavashyak hai jo mujhe nahi aata thaa. Samasyaaon ne mujhe ye sabak diya ki Asweekaryataa prakat karna koi aparaadh nahi hai aur is vichar ke mere andar aalok ke baad se hi mere dil par rakha bojh kam hone laga aur ab meri bhavanaatmak roop se doosaron par nirbharta kam hone lagi.


Aaj jab main Pappy dii ko fir se yaad karti hun to lagta hai ki unhone meri andekhi nahi ki thi balki maine unki andekhi ki, apni chhoti soch ki vajah se aur iska mujhe parinaam bhi bhugtana pada par ab nahin. Aakhir, dono hi didiyon ke vyavhaar ka sahi mel ek achche jeevan ke liye jaruri hai. Jaise ek swadisht vyanjan ke liye usamen meetha, khatta, namkeen aur kadwa sabhi rasaayanon ka sahi mel hona jaruri hai waise hi jeevan kewal meetha batasha bankar nahi jiya ja sakta , usame thoda sa namak, neembu aur neem bhi jaruri hai. Shayad isiliye hamara dharm bhi hame dwaitvaad se adwaitvaad ki or badhne ko kahtaa hai, dikhe bhale alag ala par sampoornata ke liye ye anivarya hai ki sabhi roop milkar ho jayen 'EK'.




मेरी दो मौसेरी बहने जो आपस में सगी बहने हैं एक-दूसरे से बहुत जुदा-जुदा स्वभाव की हैं. एक हैं पप्पी दीदी,  जो सबसे बड़ी हैं और अपने बिंदास व्यक्तित्व के लिये विश्व -विख्यात हैं . मतलब ,जो बोलना है वो बोलना है, हमें पता है की हम सही हैं, बस . वहीँ उनकी छोटी बहन , गुड्डो  दीदी  हैं  जो  अपनी  प्यारी -सी  मुस्कराहट   के  लिए  विश्व -विख्यात  हैं , विश्व -विख्यात  इसलिए  क्योंकि  ये  दोनों  ही  बहाने  भारत  की  सीमाओं  को  लांघ  चुकी  हैं  और  अब  अपने  परिवार  के  साथ  क्रमशः  UK और  USA में  रहती  हैं .

बहुत  दिनों  से  सोच  रही  थी  कि  उनसे  खासतौर  पर  पप्पी  दीदी से  ये  बात  में  शेयर  करती , इस  ब्लॉग  के  बहाने  आप  सब  से  भी  शेयर  कर  रही  हूँ . मैं  बचपन  से  ही  गुड्डो  दीदी के  सरल  और  हंसमुख  स्वभाव  को  बहुत  पसंद  करती  हूँ  और  जब  भी  मौका  मिलता  मैं  उनकी  पुच्छल्ली   बन  जाती  , पप्पी  दीदी  से  मुझे कुछ  डर  सा  लगता  था , शायद  इसलिए  क्योंकि  जितना  लडिया  कर  रहने  कि  मेरी  आदत  थी  वैसा  response  मुझे  उनसे  कभी  नहीं  मिला . तो  मेरी  favorite दीदी  गुड्डो  दीदी  ही  रही . आज  भी  हैं  पर  अब  कुछ  बदल  गया  है .

इन  30 वर्षों  में  मैंने  जीवन  में  रिश्तों  के  अनेक  रूप  देखे , किसी  ने बेहद प्यार और सम्मान दिया,  किसी  ने  इतना  भरोसा  और  साथ  दिया  कि  मेरे  टूटे  हुए  आत्म -विश्वास  को  सफलता  तक  में  बदल  दिया  वहीँ  जैसे -जैसे  मैं  बड़ी  हो  रही  थी , बढ़ते  competition   ने  बेवक़ूफ़  प्रतिद्वंदी  भी  पैदा  कर  दिए  जो  'jangal law  ' follow करते  थे  मतलब  जबरन  का  'रस्ते  से  हटा  दो  प्रोग्राम '. हम्म ... मुझे  ये  सब  अजीब  लगता  था . एक  प्यारी  सी  लड़की  जो  सबके  साथ  हंस  के  रहना  चाहती  है , जो  बन  सके  करना  चाहती  है  उसे  रास्ते  से  क्यों  हटाना  है ? शायद  वो  किसी  और  के  लिए  जगह  बनाना  चाहते  थे , तो  कह  देते  न , मेरे  दिल  में  इतनी  जगह  है  कि  मैं  उनके  लिए  खुद  को  थोडा  समेट  लेती  और  उनके  काम  आती , पर  नहीं , यहाँ  तो  'जंग'  चल  रही  थी . 

इन  कमबख्त  लोगों  ने  मेरे  अन्दर  के  प्यार  और  भरोसे  को  तोडना  शुरू  कर  दिया , मुझे  लगा  कि  मैं  गलत  हूँ  और  मुझे  दुनियादारी  समझनी  पड़ेगी  पर  कभी  लगता  कि  नहीं , जब  लोग  गलत  करने  के  पहले  नहीं  सोचते  तो  मैं  सही  करने  के  बाद  भी  क्यों  दुखी  हो  रही  हूँ . ये  सही  नहीं  है , मुझे  अपनी  राह  पर  ही  चलना  चाहिए . पर  नहीं , मैं  पूरी  तरह  सही  नहीं  थी , आधी  सही  थी . मैं  लगातार  पीछे  होती  जा  रही  थी  और  उसका  कारण  सिर्फ  एक  था , मेरी  झिझक . अस्वीकार्यता  का  सही  समय  पर  सही  प्रदर्शन आवश्यक  है  जो  मुझे  नहीं  आता था समस्याओं ने मुझे ये सबक दिया कि अस्वीकार्यता प्रकट करना कोई अपराध नहीं है और इस विचार के मेरे अन्दर आलोक के बाद से  ही मेरे दिल पर रखा बोझ कम होने लगा और अब मेरी भावनात्मक रूप से दूसरों पर निर्भरता कम होने लगी.

आज जब मैं पप्पी दीदी  को फिर से याद करती हूँ तो लगता है की उन्होंने मेरी अनदेखी नहीं की थी बल्कि मैंने उनकी अनदेखी की, अपनी छोटी सोच की वजह से और इसका मुझे परिणाम भी भुगतना पड़ा पर अब नहीं. आखिर, दोनों ही दीदियों के व्यवहार का सही मेल एक अच्छे जीवन के लिए जरुरी है. जैसे एक स्वादिष्ट व्यंजन के लिए उसमें मीठा, खट्टा, नमकीन और कड़वा सभी रसायनों का सही मेल होना जरुरी है वैसे ही जीवन केवल मीठा बताशा बनकर नहीं जिया जा सकता, उसमे थोडा-सा नमक, नीम्बू और नीम भी जरुरी है. शायद इसीलिए हमारा धर्म भी हमें द्वैतवाद से अद्वैतवाद की ओर बढ़ने को कहता है . हम दिखे भले अलग-अलग पर सम्पूर्ण तभी होते हैं जब समस्त रूपों को मिलाकर हो जाते हैं  'एक '. 



2 comments:

  1. Dear Sangya,

    Thank-you so much for writing about us. No one has time in today's busy life to think about others. You have written beautifully and yes, I agree with you that sometimes we deprive ourselves from knowing someone wonderful. This is true in case of Pappy, who is stern on outside but extremely pure and soft from inside.
    Keep writing you are good :)
    Take care,
    Neena

    ReplyDelete
  2. AGAIN its awesome Sangya.

    meri aankho ke samne purane din or dono didiyon ke bachpan vale chehre ghoom rahe the...

    vo bhi din hote the ...or ye bhi din hain..or bhi bohot kuch baki hai..

    Keep going..
    Shilpa

    ReplyDelete

SHARE YOUR VIEWS WITH READERS.